Media4Citizen Logo
खबर आज भी, कल भी - आपका अपना न्यूज़ पोर्टल
www.media4citizen.com

श्रीमद भागवत कथा यज्ञ : लोभ पापस्य कारणम

अत्यधिक लोभ पाप का कारण बनता है। जब अत्यधिक लोभ बढ़ता है तो व्यक्ति भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने लगता है जो उसके पाप का कारण बनता है। पाप कर्मों का परिणाम तो भोगना ही पड़ता है।

लोभ पापस्य कारणम लोभ पापस्य कारणम
Author - राव शहजाद
राव शहजाद

ऋषिकेश , 22-01-2023


ग्राम सभा खदरी खड़क माफ में दुर्गामाता मन्दिर के समीप आयोजित श्रीमद भागवत कथा यज्ञ में व्यासपीठ वैष्णवाचार्य शिव स्वरूप नौटियाल ने पँचम दिवस की कथा का श्रवण कराते हुए कहा कि ‘लोभ पापस्य कारणम’ अत्यधिक लोभ पाप का कारण बनता है।
जब अत्यधिक लोभ बढ़ता है तो व्यक्ति भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने लगता है जो उसके पाप का कारण बनता है। पाप कर्मों का परिणाम तो भोगना ही पड़ता है। हमें इससे बचना चाहिए। वरना जीवन के अंत समय मे दुःख भोगने ही पड़ेंगे। कथा श्रवण में पूर्व सांसद प्रतिनिधि बाँके लाल पाण्डेय, पर्यावरणविद विनोद जुगलान, रतनमणी कुलियाल, रमेश चन्द्र जुगलान, गजेन्द्र रयाल, वीरेन्द्र नौटियाल, सूरत सिंह रमोला, सुरेन्द्र रयाल, पशुपति गैरोला, ओम प्रकाश गैरोला, हरी प्रसाद रयाल, राजाराम कुलियाल, जयसिंह चौहान, सुनीता चौहान, सरिता कुलियाल, तुलसी देवी जोशी, प्रसन्नी देवी, ऊषा देवी, कमली देवी भट्ट, गुड्डी देवी, अनिता राणा, आशा भट्ट, कुसुम ढौंडियाल, लक्ष्मी जुयाल अन्य गणमान्य उपस्थित थे ।


Published: 22-01-2023

लेटेस्ट


संबंधित ख़बरें